Sushma Swaraj Famous Best Quotes in Hindi

0
184

Sushma Swaraj Famous Best Quotes in Hindi

भारत की पूर्व विदेश मंत्री, अद्भुत वक्ता, देश के लिए दिन रात काम करने वाली संवेदनशील नेता श्रीमती सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं रहीं. 6 अगस्त की शाम हार्ट अटैक के कारण उनकी मृत्यु हो गयी. लेकिन कहते हैं न कुछ लोग मरते नहीं अमर हो जाते हैं, सुषमा जी भी उसी श्रेणी की हस्तियों में शुमार थीं.

आइये आज उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके अनमोल विचारों को जानते हैं.

Sushma Swaraj Quotes in Hindi सुषमा स्वराज के अनमोल विचार

Quote 1: ये इतिहास में पहली बार नहीं हुआ कि राज्य का सही अधिकारी अपने राज्य से वंचित कर दिया गया हो।

Quote 2: नवाज शरीफ कहते हैं मेरे देश में मानव अधिकार का उल्लंघन हो रहा है, मैं कहना चाहूंगी कि जिनके अपने घर शीशे के हों, उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए.

Quote 1: ये इतिहास में पहली बार नहीं हुआ कि राज्य का सही अधिकारी अपने राज्य से वंचित कर दिया गया हो।

Quote 2: नवाज शरीफ कहते हैं मेरे देश में मानव अधिकार का उल्लंघन हो रहा है, मैं कहना चाहूंगी कि जिनके अपने घर शीशे के हों, उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए.

Quote 3: जब एक मंथरा और एक शकुनी, राम और युद्धिष्ठिर जैसे महापुरुषों को सत्ता से बाहर कर सकते हैं तो हमारे खिलाफ तो कितने शकुनी और कितनी मंथराएं सक्रिय हैं.

Quote 4: एक दूसरे पर दोषरोपण करके किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता बल्कि एक साथ हो कर होता है.

Quote 5: दुनिया में ऐसे देश भी हैं जो बोते भी हैं तो आतंकवाद, उगाते भी हैं तो आतंकवाद, बेचते भी हैं तो आतंकवाद, निर्यात भी करते हैं तो आतंकवाद.

Quote 6: दुनिया की सबसे बड़ी से बड़ी समस्या का समाधान होता है तो सिर्फ संवाद से युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं है.

Quote 7: सुषमा स्वराज ने कोई काम छुप-छुप के नहीं किया. अगर छुप-छुप के किया तो क्वात्रोची को भगाने का आपने किया. अगर छुप-छुप के किया तो राजीव गाँधी की सरकार में एंडरसन को भगाने का आपने किया.

Quote 8: हम आतंकवाद की परिभाषा तय करने में उलझे हुए हैं, हमें ये समझना होगा कि आतंकवादियों में अच्छे या बुरे के आधार पर अंतर नहीं किया जा सकता.

Quote 9: सामजिक और आर्थिक प्रगति भी हमारा एक महत्त्वपूर्ण लक्ष्य है, मानव के न्यूनतम आवश्यकताओं की यदि पूर्ती कर दी जाये तो शांतिप्रिय समाज की स्थापना हो सकती है.

Quote 10: क्या हमने विश्व के संसाधनों का अपनी आवश्यकता के अनुसार उपयोग किया है, या लालच में आकर उनका शोषण किया है.

Quote 11: हमने दो वर्षों में मित्रता का वो पैमाना खड़ा किया जो उससे पहले कभी नहीं था, लेकिन हमें मिला क्या बदले में- पठानकोट, उड़ी, बहादुर अली?

Quote 12: कुछ तो मजबूरियां रही होंगी, यूँही कोई बेवफा नहीं होता… और हमारी ये मजबूरी है कि आप देश के साथ बेवफाई कर रहे हैं, इसलिए हम आपके साथ वफादार नहीं रह सकते.

Quote 13: फीसदी की भाषा बोलने वाले हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था को नहीं समझ सकते और उसका समाधान भी नहीं दे सकते।

Quote 14: आपको गाँठ खोलना नहीं आता और मसखरी के अलावा कुछ बोलना नहीं आता.

Quote 15: शायद रामराज और स्वराज की नियति यही है कि वो एक बड़े झटके के बाद मिलता है.

Quote 3: जब एक मंथरा और एक शकुनी, राम और युद्धिष्ठिर जैसे महापुरुषों को सत्ता से बाहर कर सकते हैं तो हमारे खिलाफ तो कितने शकुनी और कितनी मंथराएं सक्रिय हैं.

Quote 4: एक दूसरे पर दोषरोपण करके किसी भी समस्या का समाधान नहीं हो सकता बल्कि एक साथ हो कर होता है.

Quote 5: दुनिया में ऐसे देश भी हैं जो बोते भी हैं तो आतंकवाद, उगाते भी हैं तो आतंकवाद, बेचते भी हैं तो आतंकवाद, निर्यात भी करते हैं तो आतंकवाद.

Quote 6: दुनिया की सबसे बड़ी से बड़ी समस्या का समाधान होता है तो सिर्फ संवाद से युद्ध किसी भी समस्या का समाधान नहीं है.

Quote 7: सुषमा स्वराज ने कोई काम छुप-छुप के नहीं किया. अगर छुप-छुप के किया तो क्वात्रोची को भगाने का आपने किया. अगर छुप-छुप के किया तो राजीव गाँधी की सरकार में एंडरसन को भगाने का आपने किया.

Quote 8: हम आतंकवाद की परिभाषा तय करने में उलझे हुए हैं, हमें ये समझना होगा कि आतंकवादियों में अच्छे या बुरे के आधार पर अंतर नहीं किया जा सकता.

Quote 9: सामजिक और आर्थिक प्रगति भी हमारा एक महत्त्वपूर्ण लक्ष्य है, मानव के न्यूनतम आवश्यकताओं की यदि पूर्ती कर दी जाये तो शांतिप्रिय समाज की स्थापना हो सकती है.

Quote 10: क्या हमने विश्व के संसाधनों का अपनी आवश्यकता के अनुसार उपयोग किया है, या लालच में आकर उनका शोषण किया है.

Quote 11: हमने दो वर्षों में मित्रता का वो पैमाना खड़ा किया जो उससे पहले कभी नहीं था, लेकिन हमें मिला क्या बदले में- पठानकोट, उड़ी, बहादुर अली?

Quote 12: कुछ तो मजबूरियां रही होंगी, यूँही कोई बेवफा नहीं होता… और हमारी ये मजबूरी है कि आप देश के साथ बेवफाई कर रहे हैं, इसलिए हम आपके साथ वफादार नहीं रह सकते.

Quote 13: फीसदी की भाषा बोलने वाले हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था को नहीं समझ सकते और उसका समाधान भी नहीं दे सकते।

Quote 14: आपको गाँठ खोलना नहीं आता और मसखरी के अलावा कुछ बोलना नहीं आता.

Quote 15: शायद रामराज और स्वराज की नियति यही है कि वो एक बड़े झटके के बाद मिलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here